बिहार में धान एवं गेहूँ की विकेन्द्रीकृत अधिप्राप्ति से किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य का लाभ मिला.

इस खबर को सुनें

बिहार में धान एवं गेहूँ की विकेन्द्रीकृत अधिप्राप्ति से किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य का लाभ मिला है। इस वर्ष 35.58 लाख मे0 टन धान का रिकार्ड अधिप्राप्ति किया गया और किसानों को 6736 करोड़ रूपये का भुगतान किया जा चुका है। पहले बिहार में गेहूँ की खरीद नाम मात्र की होती थी।


12 जून की समीक्षा बैठक के बाद लगा कि 15 जून, 2021 तक 3.5 लाख मे0 टन गेहूँ की अधिप्राप्ति हो जाएगी। परन्तु यह हर्ष का विषय है कि 15 जून, 2021 के अन्तिम आँकड़ों के अनुसार 4 लाख 56 हजार मे0 टन गेहूँ की रिकार्ड खरीद की गई है।

यह उत्साहवर्धक उपलब्धि है। अगले वर्ष धान और गेहूँ की और अधिक खरीद की जाएगी जिससे अधिक से अधिक किसानों को उनकी उपज का उचित मूल्य दिलाया जा सके।

स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे